आशिकों की महफिल Aashiqon Ki Mehfil Lyrics - Payal Dev, Stebin Ben

AASHIQON KI MEHFIL LYRICS IN HINDI: आशिकों की महफिल This Wedding song is sung by Payal Dev and Stebin Ben & released by Apni Dhun. AASHIQON KI MEHFIL song was composed by Payal Dev, with lyrics written by Rashmi Virag. The music video of this track is picturised on Parth Samthaan and Nyra Banerjee.

Aashiqon Ki Mehfil Lyrics

Ho gayi hain bahut teri manmarzian
Ab tu sun le zara ishq ki arzian

Fir shuru ho gayi teri besharmian
Kyun samjhte nahi meri khamoshian

Itna satao na dil ko jalao na
Door hato humse haath lagao na

Husan kamaal bura haal mera dekh meri jaan
Aashiqon ki mehfil mein kabse khade hain
Aashiqon ki mehfil mein kabse khade hain

Ik nigah galti se hum pe bhi daalo
Baad mein zamane se tum ishq karna
Aag jo lagi hai woh pehle bujha lo

Aashiqon ki mehfil mein laakhon khade hain
Kyun nigah apni main tum pe hi daalu
Iss kadar haseen hu ke sara zamana
Roz humse kehta hai apna bana lo

bharatlyrics.com

Iss tarah nazakat se palkein jhukana
Tumhe khoob aata hai paagal banana

Ho baat ko isharon mein hum keh rahe hain
Aur tum yeh kehte ho likh ke batana

Samjh bhi jao na paas toh aao na
Husan kamaal bura haal mera dekh meri jaan

Aashiqon ki mehfil mein laakhon khade hain
Kyun nigah apni main tum pe hi daalu
Iss kadar haseen hu ke sara zamana
Roz humse kehta hai apna bana lo

Tera deedar hua dil bimar hua
Naino se jo teer chala woh dil ke paar hua

Mera deedar hua tu bimar hua
Naino se jo teer chala woh dil ke paar hua

Husan kamaal bura haal mera dekh meri jaan
Aashiqon ki mehfil mein kabse khade hain
Ik nigah galti se hum pe bhi daalo

Aashiqon ki mehfil mein laakhon khade hain
Kyun nigah apni main tum pe hi daalu

आशिकों की महफिल Lyrics in Hindi

हो गई हैं बहुत तेरी मनमर्जियां
अब तू सुन ले जरा इश्क की अरजियां

फिर शुरू हो गई तेरी बेशर्मियां
क्यों समझते नहीं मेरी खामोशियां

इतना सताओ ना दिल को जलाओ ना
दूर हटो हमसे हाथ लगाओ ना

भारतलिरिक्स.कॉम

हुस्न कमाल बुरा हाल मेरा देख मेरी जान
आशिकों की महफिल में कबसे खड़े हैं
आशिकों की महफिल में कबसे खड़े हैं

इक निगाह गलती से हम पे भी डालो
बाद में जमाने से तुम इश्क करना
आग जो लगी है वो पहले बुझा लो

आशिकों की महफिल में लाखों खड़े हैं
क्यों निगाह अपनी मैं तुम पे ही डालू
इस कदर हसीन हूं के सारा जमाना
रोज हमसे कहता है अपना बना लो

इस तरह नजाकत से पलकें झुकाना
तुम्हें खूब आता है पागल बनाना

हो बात को इशारों में हम कह रहे हैं
और तुम ये कहते हो लिख के बताना

समझ भी जाओ ना पास तो आओ ना
हुस्न कमाल बुरा हाल मेरा देख मेरी जान

आशिकों की महफिल में लाखों खड़े हैं
क्यों निगाह अपनी मैं तुम पे ही डालू
इस कदर हसीन हूं के सारा ज़माना
रोज़ हमसे कहता है अपना बना लो

तेरा दीदार हुआ दिल बीमार हुआ
नैनो से जो तार चला वो दिल के पार हुआ

मेरा दीदार हुआ तू बीमार हुआ
नैनो से जो तार चला वो दिल के पार हुआ

हुस्न कमाल बुरा हाल मेरा देख मेरी जान
आशिकों की महफिल में कबसे खड़े हैं
इक निगाह गलती से हम पे भी डालो

आशिकों की महफिल में लाखों खड़े हैं
क्यों निगाह अपनी मैं तुम पे ही डालू

Aashiqon Ki Mehfil Lyrics PDF Download
Print Print PDF     Pdf PDF Download

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *