ऐसे क्यों Aise Kyun Lyrics - Anurag Saikia, Rekha Bhardwaj

ऐसे क्यों Aise Kyun Lyrics in Hindi

ऐसे क्यों कुछ तो लिखती हूं
लिख के मिटाती हूं मैं रात भर
ऐसे क्यों बातें खुद की हाय
खुद से छुपती हूं मैं आज कल

पर ये सब सोचना
दिल को यूं खोलना
सब कुछ कह कर ही
सबको बताना जरूरी है क्या
ऐसे क्यों

ऐसे क्यों उसके होठों पे
अच्छा लगता है मेरा नाम
ऐसे क्यों कुछ भी बोले वो
मन में घुलता है ज़ाफ़रान

गिरता है गुलमोहर
ख्वाबों में रात भर
ऐसे ख्वाबों से बाहर निकलना
ज़रूरी है क्या

ऐसे क्यों
हां क्यों हां क्यों
वो कुछ बोले ना ऐसे क्यों
हां क्यों हां क्यों
वो कुछ बोले ना

अक्सर तुमसे मिलकर मुझको
घर सा लगता है
फिर क्यों दिल ही दिल में कोई
डर सा लगता है

Aise Kyun Lyrics

Aise kyun kuch to likhti hoon
Likh ke mitati hoon main raat bhar
Aise kyun batein khud ki hi
Khud se chhupati hoon main aaj kal

Par ye sab sochna
Dil ko yun kholna
Sab kuch keh kar hi
Sab ko batana zaroori hai kya
Aise kyun

Aise kyun uske hothon pe
Acha lagta hai mera naam
Aise kyun kuch bhi bole wo
Man mein ghulta hai zaafraan

Girta hai gulmohar
Khwabon mein raat bhar
Aise khwabon se baahar nikalna
Zaroori hai kya

Aise kyun
Haan kyun haan kyun
Wo kuch bole na aise kyun
Haan kyun haan kyun
Wo kuch bole na

Aksar tumse milkar mujhko
Ghar sa lagta hai
Fir kyon dil hi dil mein koi
Dar sa lagta hai

Aise Kyun Lyrics PDF Download
Print Print PDF     Pdf PDF Download

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *