आख़िरी मुलाक़ात Akhri Mulakat Lyrics - Mairien James, Javed Ali

AKHRI MULAKAT LYRICS: The song is sung by Mairien James and Javed Ali and released by Tp3 Records label. AKHRI MULAKAT is a Playful song, composed by Aniket Shukla, with lyrics written by Maahir. The music video of this track is picturised on Mairien James, Sharad Malhotra and Prabh Grewal.

Akhri Mulakat Lyrics

Ishq piyaa
Ishq piyaa

Aakhri mulakat hai fir door ho jana hai
Yeh soch ke ronaa araha jhootha muskurana hai
In dardon ko bhi mere ghar hi aana hai
Hum hnsate the jinako us ne hi hum ko rulana hai
Parason humy ek ho jana tha
Aur beech mein kal pad gaya

Kaisa ishq kiya us ne tum ko piya
Jo mera kam pad gaya
Kaisa ishq kiya us ne tum ko piya
Jo mera kam pad gaya

Kam pad gaya ishq paya

Tujhe pa kar ke laga tha ki tere jaisa na koi
Tere ho ke pata chala tere jaisa har koi
Yaar tu hi badala hai main hoon aaj bhi wohi
Aur na jane kyon tujhe main hansate dekh ke roi
Socha ke bhool chuki ho tujhy to dimaag se dil lad gaya

Kaisa ishq kiya us ne tum ko piya
Jo mera kam pad gaya
Kaisa ishq kiya us ne tum ko piya
Jo mera kam pad gaya

Ishq paya kam pad gaya

Kya kary kismat ne dhokha kiya hai
Tera hona chahate the na hone diya hai
Kisi aur ka haath jo mainne haath mein liya hai
Bas itana samajh lo ke ek samajhauta kiya hai

Zindagi jeene mein mahir tha
Chhohda tujhe mar gaya
Ishq tera hi tha
Tera hona tha piya
Tune samajha diya

Kaisa ishq kiya us ne tum ko piya
Jo mera kam pad gaya
Kaisa ishq kiya us ne tum ko piya
Jo mera kam pad gaya

आख़िरी मुलाक़ात Akhri Mulakat Lyrics in Hindi

इश्क़ पिया
इश्क़ पिया

आख़िरी मुलाक़ात है फिर दूर हो जाना है
ये सोच के रोना आ रहा झूठा मुस्कुराना है
इन दर्दों को भी मेरे घर ही आना है
हम हंसाते थे जिनको उसने ही हमको रुलाना है
परसों हमें एक हो जाना था
और बीच में कल पड गया

कैसा इश्क़ किया उसने तुमको पिया
जो मेरा कम पड गया
कैसा इश्क़ किया उसने तुमको पिया
जो मेरा कम पड गया

कम पड गया इश्क़ पिया

तुझे पा कर के लगा था कि तेरे जैसा ना कोई
तेरे हो कर के पता चला तेरे जैसा हर कोई
यार तू ही बदला है मैं हूँ आज भी वही
और ना जाने क्यों तुझे मैं हंसते देख के रोई
सोचा के भूल चुकी हो तुझे तो दिमाग से दिल लड़ गया

कैसा इश्क़ किया उसने तुमको पिया
जो मेरा कम पड गया
कैसा इश्क़ किया उसने तुमको पिया
जो मेरा कम पड गया

इश्क़ पिया कम पड गया

क्या करे किस्मत ने धोखा किया है
तेरा होना चाहते थे ना होने दिया है
किसी और का हाथ जो मैंने हाथ में लिया है
बस इतना समझ लो के एक समझौता किया है

ज़िंदगी जीने में माहिर था
छोड़ा तुझे मर गया
इश्क़ तेरा ही था
तेरा होना था पिया
तूने समझा दिया

कैसा इश्क़ किया उसने तुमको पिया
जो मेरा कम पड गया
कैसा इश्क़ किया उसने तुमको पिया
जो मेरा कम पड गया

Akhri Mulakat Lyrics PDF Download
Print Print PDF     Pdf PDF Download

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *