Bholenath Ji Lyrics - Hansraj Raghuwanshi

Bholenath Ji Lyrics - Hansraj Raghuwanshi

BHOLENATH JI LYRICS IN HINDI: भोलेनाथ जी, The song is sung by Hansraj Raghuwanshi and released by Saregama Bhakti label. BHOLENATH JI is a Shiv Bhajan song, composed by Ricky T Giftrulers, with lyrics written by Ricky T Giftrulers.

Bholenath Ji Song Lyrics

Gunje ambar barse saavan
Bhakt vi aaye tujhe manavan
Gunje ambar barse saavan
Bhakt vi aaye tujhe manavan

Kal kal bahti jaaye nadiyan
Baje jo damru lage sab gaavan
Laaye hai toli bhuto ki sath ji

Padhare virane mein bholenath ji
Padhare virane mein bholenath ji
Padhare virane mein shambhunath ji

Dharti sooraj chanda saare
Teeno lok se aaye hai
Bahut bhayankar pret bhi hai sang
Dhol nagade laaye hai

Dharti sooraj chanda saare
Teeno lok se aaye hai
Bahut bhayankar pret bhi hai sang
Dhol nagade laaye hai

Mukh se bhole bhole nikle
Kya hai baat ji

Padhare virane mein bholenath ji
Padhare virane mein bholenath ji
Padhare virane mein shambhunath ji

Aadi-nath o swaroop, uday-nath uma-mahi-roop
Jal-rupi bramha sat-nath, ravi-roop vishnu santosh-nath
Aadi-nath kailash-nivasi, uday-nath kaate jam-faasi
Saty-nath saarni sant bhakhai, santosh-nath sada santan ki rakhe

Bhole ke rang ajab nirale
Piye jo bhola vish ke pyale
Nandi par karte hai sawari
Gale mein hai vaasuki daale

Bhole ke rang ajab nirale
Piye jo bhola vish ke pyale
Nandi par karte hai sawari
Gale mein hai vaasuki daale

Sabse uncha naam hai natho ke nath ji

Padhare virane mein bholenath ji
Padhare virane mein bholenath ji
Padhare virane mein shambhunath ji

Padhare virane mein bholenath ji
Padhare virane mein bholenath ji
Padhare virane mein shambhunath ji.

भोलेनाथ जी Lyrics in Hindi

गूंजे अंबर बरसे सावन
भक्त वी आए तुझे मनावन
गूंजे अंबर बरसे सावन
भक्त वी आए तुझे मनावन

कल कल बहती जाए नदियां
बजे जो डमरू लगे सब गावन
लाए है टोली भूतों की साथ जी

पधारे वीराने में भोलेनाथ जी
पधारे वीराने में भोलेनाथ जी
पधारे वीराने में शंभुनाथ जी

धरती सूरज चंदा सारे
तीनो लोक से आए है
बहुत भयंकर प्रेत भी है संग
ढोल नगाड़े लाए है

धरती सूरज चंदा सारे
तीनो लोक से आए है
बहुत भयंकर प्रेत भी है संग
ढोल नगाड़े लाए है

मुख से भोले भोले निकले
क्या है बात जी

पधारे वीराने में भोलेनाथ जी
पधारे वीराने में भोलेनाथ जी
पधारे वीराने में शंभुनाथ जी

आदि-नाथ ओ स्वरुप, उदय-नाथ उमा-महि-रुप
जल-रुपी ब्रह्मा सत-नाथ, रवि-रुप विष्णु सन्तोष-नाथ।
आदि-नाथ कैलाश-निवासी, उदय-नाथ काटै जम-फाँसी
सत्य-नाथ सारनी सन्त भाखै, सन्तोष-नाथ सदा संतन की राखे

bharatlyrics.com

भोले के रंग अजब निराले
पिए जो भोला विष के प्याले
नंदी पर करते है सवारी
गले में है वासुकी डाले

भोले के रंग अजब निराले
पिए जो भोला विष के प्याले
नंदी पर करते है सवारी
गले में है वासुकी डाले
सबसे ऊँचा नाम है नाथों के नाथ जी

पधारे वीराने में भोलेनाथ जी
पधारे वीराने में भोलेनाथ जी
पधारे वीराने में शंभुनाथ जी

पधारे वीराने में भोलेनाथ जी
पधारे वीराने में भोलेनाथ जी
पधारे वीराने में शंभुनाथ जी.

Bholenath Ji Lyrics PDF Download
Print PDF      PDF Download

Leave a Reply