Gham-E-Ashiqui Lyrics - Rahat Nusrat Fateh Ali Khan

Gham-E-Ashiqui Lyrics - Rahat Nusrat Fateh Ali Khan

GHAM-E-ASHIQUI LYRICS IN HINDI: Gham-E-Ashiqui (गम-ए-आशिक़ी) is a Hindi Sad song, voiced by Rahat Nusrat Fateh Ali Khan from Ustad Rahat Fateh Ali Khan PME. The song is composed by Kamran Akhtar, with lyrics written by Parveen Shakir.

हिंदी
English

गम-ए-आशिक़ी Lyrics in Hindi

गम-ए-आशिक़ी तेरी राह में
शब-ए-आरजू तेरी चाह में
जो उजड गया वो बसा नहीं
जो बिछड़ गया वो मिला नहीं

कभी अर्श पर कभी फर्श पर
कभी उन के दर कभी दरबदर
कभी अर्श पर कभी फर्श पर
कभी उन के दर कभी दरबदर

गम-ए-आशिक़ी तेरा शुक्रिया
हम कहाँ कहाँ से गुज़र गए
ग़म-ए-आशिक़ी तेरा शुक्रिया
हम कहाँ कहाँ से गुज़र गए

तेरी हाथ विच डोर वे साइयाँ
उत्ते मी दा की ज़ोर वे साइयाँ
गुम सुम बैठी कमलेया वांगु
अंदर चुप दा शोर वे साइयाँ

मुझे याद है कभी एक थे
मगर आज हम है जुदा जुदा
मुझे याद है कभी एक थे
मगर आज हम है जुदा जुदा
वो जुदा हुए तो संवर गए
हम जुदा हुए तो बिखर गए

ग़म-ए-आशिक़ी तेरा शुक्रिया
हम कहाँ कहाँ से गुज़र गए
गम-ए-आशिक़ी तेरा शुक्रिया
हम कहाँ कहाँ से गुज़र गए

भारतलिरिक्स.कॉम

कभी नींद में कभी होश में
तू जहां मिला तुझे देख कर
कभी नींद में कभी होश में
तू जहां मिला तुझे देख कर
ना नज़र मिली ना ज़ुबान हीली
यून ही सर झुका के गुज़र गए

ग़म-ए-आशिक़ी तेरा शुक्रिया
हम कहाँ कहाँ से गुज़र गए
गम-ए-आशिक़ी तेरा शुक्रिया
हम कहाँ कहाँ से गुज़र गए.

Gham-E-Ashiqui Song Lyrics

Gham-e-ashiqui teri raah mein
Shab e arzoo teri chaah mein
Jo ujad gaya woh basa nahi
Jo bichar gaya woh mila nahi

Kabhi arsh par kabhi farsh par
Kabhi un ke der kabhi darbadar
Kabhi arsh par kabhi farsh par
Kabhi un ke der kabhi darbadar

Gham-e-ashiqui tera shukriya
Hum kahan kahan se guzar gaye
Gham-e-ashiqui tera shukriya
Hum kahan kahan se guzar gaye

Teri hath vich dor ve saaiyaan
Utte mee da ki zor ve saaiyaan
Ghum sum baithi kamleyaan wangu
Andar chup da shor ve saaiyaan

Mujhe yaad hai kabhi ek the
Magar aaj hum hai juda juda
Mujhe yaad hai kabhi ek the
Magar aaj hum hai juda juda
Woh juda huye tu sanwar gaye
Hum juda huye tu bikhar gaye

Gham-e-ashiqui tera shukriya
Hum kahan kahan se guzar gaye
Gham-e-ashiqui tera shukriya
Hum kahan kahan se guzar gaye

Kabhi neend mein kabhi hosh mein
Tu jahan mila tujhe dekh kar
Kabhi neend mein kabhi hosh mein
Tu jahan mila tujhe dekh kar
Na nazar milli na zuban hilli
Yun hi sar jukha ke guzar gaye

bharatlyrics.com

Gham-e-ashiqui tera shukriya
Hum kahan kahan se guzar gaye
Gham-e-ashiqui tera shukriya
Hum kahan kahan se guzar gaye.

Print PDF      PDF Download

Leave a Reply