Hisaab Lyrics - Raj Barman

Hisaab Lyrics - Raj Barman

LYRICS OF 'HISAAB' IN HINDI: हिसाब The song is sung by Raj Barman from Zee Music Company. HISAAB is a Sad song, composed by Siddharth Kasyap, with lyrics written by Rakesh Kumar (Kumaar). The music video of the track is picturised on Paras Arora and Kashika Kapoor.

Hisaab Song Lyrics

Kisi ka dil dukhaoge
Toh dard tum bhi paoge
Kisi ka dil dukhaoge
Toh dard tum bhi paoge

Kisi ko tum rulaoge
Toh aansu tum bhi paoge
Na sifarish na guzarish
Na hi lihaaz karta hai

Ishq mein khuda barabar ka
Hisaab karta hai
Ishq mein khuda barabar ka
Hisaab karta hai

Haan apna bana ke
Begaana kar dena
Beech safar mein
Anjaana kar dena

Haan apna bana ke
Begaana kar dena
Beech safar mein
Anjaana kar dena

Jee bhi na paye
Kisi ke bina
Kyun itna zyada
Deewana kar dena

Kahan ki yeh sharafat hai
Jaan kaisi yeh aadat hai

Kahan ki yeh sharafat hai
Jaane kaisi yeh aadat hai
Kisi ko kar dena barbaad
Kisne di yeh ijaazat hai

Chahe jitne kar lo parde
Yeh benakaab karta hai

Ishq mein khuda barabar ka
Hisaab karta hai
Ishq mein khuda barabar ka
Hisaab karta hai

Kisi ka dil dukhaoge
Toh dard tum bhi paoge
Na sifarish na guzarish
Na hi lihaaz karta hai

Ishq mein khuda barabar ka
Hisaab karta hai
Ishq mein khuda barabar ka
Hisaab karta hai

Ishq mein khuda barabar ka
Hisaab karta hai
Ishq mein khuda barabar ka
Hisaab karta hai.

हिसाब Lyrics in Hindi

किसी का दिल दुखाओगे
तो दर्द तुम भी पाओगे
किसी का दिल दुखाओगे
तो दर्द तुम भी पाओगे

किसी को तुम रुलाओगे
तो आंसू तुम भी पाओगे
ना सिफारिश ना गुज़ारिश
ना ही लिहाज़ करता है

इश्क़ में खुदा बराबर का
हिसाब करता है
इश्क़ में खुदा बराबर का
हिसाब करता है

हाँ अपना बना के
बेगाना कर देना
बीच सफर में
अनजाना कर देना

हाँ अपना बना के
बेगाना कर देना
बीच सफर में
अनजाना कर देना

जी भी ना पाये
किसी के बिना
क्यूँ इतना ज़्यादा
दीवाना कर देना

कहाँ की ये शराफत है
जान कैसी ये आदत है

कहाँ की ये शराफत है
जाने कैसी ये आदत है
किसी को कर देना बर्बाद
किसने दी ये इजाज़त है

चाहे जितने कर लो परदे
ये बेनकाब करता है

इश्क़ में खुदा बराबर का
हिसाब करता है
इश्क़ में खुदा बराबर का
हिसाब करता है

किसी का दिल दुखाओगे
तो दर्द तुम भी पाओगे
ना सिफारिश ना गुज़ारिश
ना ही लिहाज़ करता है

इश्क़ में खुदा बराबर का
हिसाब करता है
इश्क़ में खुदा बराबर का
हिसाब करता है

bharatlyrics.com

इश्क़ में खुदा बराबर का
हिसाब करता है
इश्क़ में खुदा बराबर का
हिसाब करता है.

Hisaab Lyrics PDF Download
Print PDF      PDF Download

Leave a Reply