हमसफ़र Humsafar Lyrics - Kajal Maheriya

हमसफ़र, HUMSAFAR HINDI LYRICS is recorded by Kajal Maheriya from Saregama Gujarati label. The music of "HUMSAFAR" song is composed by Ravi Nagar and Rahul Nadiya, while the lyrics are penned by Bharat Ravat and Devraj Adroj. The music video of the track features Karan Rajveer, Neha Suthar, Savan Makvana and Priya Shah.

Ishq mein humne apne dil pe chot khai hai
Ho ishq mein humane apne dil pe chot khai hai
Na koi marz uska na koi davai hai
Ho ishq mein humne apne dil pe chot khai hai
Na koi marz uska na koi davai hai

Ho pehle apna bana ke humsafar bane the tum
Phir rula ke mujhe ho gaye ho humse door
Meri takdeer kis raah pe le aayi hai
Pyar mein tere thokar aisi khai hai
Teri ruswai meri jaan le jaati hai
Ho na koi marz uska na koi davai hai

Apana bana ke wo dil mein utar aate hai
Pal mein paraye banke dhokha de jaate hai
Sath diya jiska wo sath chhod jaate hai
Jisko dete hai hasi wohi to rulate hai

Ho kisko jaake sunau mere dard dil ke gam
Ab na ho rahi hai takleefe ye dil ki kam

Meri takdeer kis raah pe le aayi hai
Pyar mein tere thokar aisi khai hai
Teri mophabbat meri maut ban aayi hai
Ho na koi marz uska na koi davai hai
Teri ruswai meri jaan le jaati hai

Jaan se bhi jyada pyar tujhse karte the
Teri har ada teri baato pe hi marte the
Ho khud se jyada tumpe bharosa hum karte the
Tod gaya riste jis baat se darte the

Ho bewafai ka zehar humko de gaye ho tum
Jee ni thi zindagi par maut de gaye ho tum

Meri takdeer kis raah pe le aayi hai
Pyar mein tere thokar aisi khai hai
Ho na koi marz uska na koi davai hai
Ho na koi marz uska na koi davai hai

Ho na koi marz uska na koi davai hai
Ho na koi marz uska na koi davai hai.

हमसफ़र Lyrics in Hindi

इश्क़ में हमने अपने दिल पे चोट खाई है
हो इश्क़ में हमने अपने दिल पे चोट खाई है
ना कोई मर्ज़ उसका ना कोई दवाई है
हो इश्क़ में हमने अपने दिल पे चोट खाई है
ना कोई मर्ज़ उसका ना कोई दवाई है

bharatlyrics.com

हो पहले अपना बना के हमसफ़र बने थे तुम
फिर रुला के मुझे हो गए हो हमसे दूर

मेरी तकदीर किस राह पे ले आयी है
प्यार में तेरे ठोकर ऐसी खाई है
तेरी रुसवाई मेरी जान ले जाती है
हो ना कोई मर्ज़ उसका ना कोई दवाई है

अपना बना के वो दिल में उतर आते है
पल में पराये बनके धोखा दे जाते है
साथ दिया जिसका वो साथ छोड़ जाते है
जिसको देते है हसी वही तो रुलाते है

हो किसको जाके सुनाऊ मेरे दर्द दिल के गम
अब ना हो रही है तकलीफे ये दिल की कम

मेरी तकदीर किस राह पे ले आयी है
प्यार में तेरे ठोकर ऐसी खाई है
तेरी मोहब्बत मेरी मौत बन आयी है
तेरी रुसवाई मेरी जान ले जाती है

जान से भी ज्यादा प्यार तुझसे करते थे
तेरी हर अदा तेरी बातों पे ही मरते थे
हो खुद से ज्यादा तुझपे भरोसा हम करते थे
तोड़ गया रिश्ते जिस बात से डरते थे

हो बेवफाई का ज़हर तुमको दे गए हो तुम
जी नी थी ज़िंदगी पर मौत दे गए हो तुम

मेरी तकदीर किस राह पे ले आयी है
प्यार में तेरे ठोकर ऐसी खाई है
हो ना कोई मर्ज़ उसका ना कोई दवाई है
हो ना कोई मर्ज़ उसका ना कोई दवाई है

हो ना कोई मर्ज़ उसका ना कोई दवाई है
हो ना कोई मर्ज़ उसका ना कोई दवाई है.

Humsafar Lyrics PDF Download
Print Print PDF     Pdf PDF Download

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *