मजाक Mazaak Lyrics - Anuv Jain

LYRICS OF 'MAZAAK' IN HINDI: मजाक The song is sung by Anuv Jain from Anuv Jain. MAZAAK is a Playful song, composed by Angad Bahra, with lyrics written by Anuv Jain.

मजाक Mazaak Lyrics in Hindi

ये भी मजाक ही तो है
सालों से सड़कों पर
सावधानी से चल रहा था यूँ

गालों के गधों में तेरे
ना जाने क्यों मैं
लड़खड़ा के गिर गया हूँ

मुस्कुराओ और ऐसे हँसो
मेरी बातों पे
गिरता रहूँ तेरी राहों में
और इन में ही खो जाऊँगा

ये भी मजाक ही तो है
कैसे ये रातों के
इरादों में अंधेरा था यूँ

आधे से चाँद सी हंसी
अंधेरी रातों में
अब नूर बन गई क्यों

ए चाँद
अब चाँदनी बनके गिरो ज़रा
गिरते रहो मेरे आस पास
तो तेरा ही हो जाऊँगा

हो जाऊँगा तेरा एहसास है
सांसें हैं जब तक यहाँ
हो जाऊँ मैं तेरा

ये न मेरा अंदाज है
देखो मैं खुद हंस रहा
अपनी बातों पे यहाँ ऐसे

तुम भी हंसो मेरी बातों पे
ना जाने क्या हो रहा मुझे
मैं तेरा ही हो जाऊँगा हो जाऊँगा

ये भी मजाक ही तो है
मेरी नकल है
या असल में गिर रहे हो तुम भी
होता नहीं है अब यकीन
क्या ये मजाक तो नहीं

Mazaak Lyrics

Yeh bhi mazaak hi toh hai
Saalon se sadkon pe
Sambhal ke chal raha tha yun

Gaalon ke gadhon mein tere
Na jaane kyun main
Ladkhada ke gir gaya hu

Muskurao aur aise haso
Meri baaton pe
Girta rahun teri rahon mein
Aur inn mein hi kho jaunga

Yeh bhi mazaak hi toh hai
Kaise ye raaton ke
Iraadon mein andhera tha yu

Aadhe se chand si hansi
Andheri raaton mein
Ab noor ban gayi kyun

Ae chand
Ab chandani banke giro zara
Girte raho mere aas paas
Toh tera hi ho jaunga

Ho jaunga tera ehsaas hai
Sansein hai jab tak yahan
Ho jaun main tera

Yeh na mera andaaz hai
Dekho mein khud hans raha
Apni baaton pe yahaan aise

Tum bhi hanso meri baaton pe
Naa jaane kya ho raha mujhe
Main tera hi ho jaunga ho jaunga

Yeh bhi mazaak hi toh hai
Meri nakal hai
Ya asal mein gir rahe ho tum bhi
Hota nahi hai ab yakeen
Kya yeh mazaak toh nahi

Mazaak Lyrics PDF Download
Print Print PDF     Pdf PDF Download

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *