मोहब्बत के काबिल Mohabbat Ke Kabil Lyrics - Salman Ali

मोहब्बत के काबिल | MOHABBAT KE KABIL LYRICS IN HINDI: The song is sung by Salman Ali under BJS Music label. MOHABBAT KE KABIL song was composed by Shiva Chopra, with lyrics written by Ravi Chopra.

मोहब्बत के काबिल Mohabbat Ke Kabil Lyrics in Hindi

तुम तो कहते थे हम लाज़मी हैं सनम

तुम तो कहते हैं हम लाज़मी है सनम
ख्वाब वाली हर एक रात के वास्ते
मन्नतें मिन्नतें क्या न करते थे तुम
हमसे इक मुलाकात के वास्ते

ये कहानी मगर तब की है जब
हम हुए तुमको हासिल नहीं थे
आज तुमको पता ये चला है
हम मोहब्बत के काबिल नहीं थे

आज तुमको पता ये चला है
हम मोहब्बत के काबिल नहीं थे
हम मोहब्बत के काबिल नहीं थे

क्यों हथेली पे अपनी हमेशा मुझे
नाम लिख के मेरा दिखाते रहे
वो खुदा भी तो होगा ज़रा सा खफा
जिसकी झूठी कसम रोज खाते रहे

वो बात शायद तुम्हें आज भी याद होगी
जो कल याद थी
दो चार दिन हम तुम्हें न मिले थे
तो आंखों में फरियाद थी

दिल धड़कता नहीं था तुम्हारा
हम जो धड़कन में शामिल नहीं थे

आज तुमको पता ये चला है
हम मोहब्बत के काबिल नहीं थे
हम मोहब्बत के काबिल नहीं थे

आज भी उस गली में ही है घर मेरा
जागते थे तुम्हारे सवेरे जहां
मेरे कमरे में अब तक वो मौजूद है
छोड़ जाते थे जो इश्क वाले निशान

हमने कभी शर्त रक्खी ना कोई
कहा जो तुम ने कहा
अब फासले याद आए तुम्हें
फासला का कोई जब रहा

डूब जाते थे जब इस नजर में
याद तब तुमको साहिल नहीं थे

आज तुमको पता ये चला है
हम मोहब्बत के काबिल नहीं थे
हम मोहब्बत के काबिल नहीं थे

Mohabbat Ke Kabil Lyrics

Tum to kehte the hum lazmi hai sanam

Tum to kehte the hum lazmi hai sanam
Khwab wali har ek raat ke vaaste
Manate minatein kya na karte the tum
Humse ikk mulakaat ke vaaste

Ye kahani magar tab ki hai
Jab hum huye tumko hasil nahi the
Ajj tumko pata ye chala hai
Hum mohabbat ke kabil nahi the

Ajj tumko pata ye chala hai
Hum mohabbat ke kabil nahi the
Hum mohabbat ke kabil nahi the

Kyun hatheli pe apni hmesha mujhe
Naam likh likh ke mera dikhate rahe
Wo khuda bhi to hoga jara sa khafa
Jiski jhoothi kasam roj khate rahe

Wo baat sayad tumhe aaj bhi yaad hogi
Jo kal yaad thi
Do char din hum tumhe na mile the
To ankhon mein fariyaad thi

Dil dhadkata nahi tha tumahra
Hum jo dhadkan mein shamil nahi the

Ajj tumko pata ye chala hai
Hum mohabbat ke kabil nahi the
Hum mohabbat ke kabil nahi the

Aaj bhi us gali mein hi hai ghar mera
Jagte the tumhare sawere jahan
Mere kamre ab tak wo maujood hai
Chod jate the jo ishq wale nishaan

Humne kabhi shart rakhi na koi
Kaha jo tumhi ne kaha
Ab faasle yaad aaye tumhe
Faasla na jab koi raha

Doob jate the jab is nazar mein
Yaad tab tumko sahil nahi the

Ajj tumko pata ye chala hai
Hum mohabbat ke kabil nahi the
Hum mohabbat ke kabil nahi the

Mohabbat Ke Kabil Lyrics PDF Download
Print Print PDF     Pdf PDF Download

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *