Tere Noor Se Lyrics - Revaansh Kohli

Tere Noor Se Lyrics - Revaansh Kohli

TERE NOOR SE LYRICS IN HINDI: तेरे नूर से, The song is sung by Revaansh Kohli and released by Zee Music Company label. TERE NOOR SE is a Love song, composed by Amc Aman, with lyrics written by Samsher Singh Beniyaaz. The music video of this song is picturised on Ashnoor Kaur and Revaansh Kohli.

Tere Noor Se Song Lyrics

Suraj kyun falak pe fisalne laga
Chand bhi bewaqt nikal ne laga

Suraj kyun falak pe fisalne laga hain
Chand bhi bewaqt nikal ne laga
Bas teri hi dua main karta raha
Lagta hain ki sunli rabb ne

bharatlyrics.com

Kuch baadal pighle honge tere noor se
Jo milane aa gaye hain itni door se
Kuch baadal pighle honge tere noor se
Jo milane aa gaye hain itni door se

Teri baarishon mein bheega
Teri khwahishon mein jeeta
Teri rangaton mein ranga
Kab se yeh dil hain

Aisi inaayat hain tu
Tujhko hi dekhu harsu
Sans sans teri khushbu
Mujhme basi hain

Bas tujhko sada main deta raha
Kud jawabo mein tu aa rahi hain

Kuch baadal pighle honge tere noor se
Jo milane aa gaye hain itni door se
Kuch baadal pighle honge tere noor se
Jo milane aa gaye hain itni door se

Teri har sans resham
Teri har baat marham
Karde door saare ye gam
Tu ek mehar hain

Tujhse jo rang churaya
Neela wo falak ho paya
Rom rom tu samaya
Banke aashiqui hain

Kar mujhpe ata raz mujhko bata
Ke tujhko banaya hain kisne

Kuch baadal pighle honge tere noor se
Jo milane aa gaye hain itni door se
Kuch baadal pighle honge tere noor se
Jo milane aa gaye hain itni door se.

तेरे नूर से Lyrics in Hindi

सूरज क्यूँ फलक पे फिसलने लगा
चाँद भी बेवक़्त निकल ने लगा

सूरज क्यूँ फलक पे फिसलने लगा हैं
चाँद भी बेवक़्त निकल ने लगा
बस तेरी ही दुआ मैं करता रहा
लगता हैं की सुनली रब्ब ने

कुछ बादल पिघले होंगे तेरे नूर से
जो मिलने आ गये हैं इतनी दूर से
कुछ बादल पिघले होंगे तेरे नूर से
जो मिलने आ गये हैं इतनी दूर से

तेरी बारिशों में भीगा
तेरी ख्वाहिशों में जीता
तेरी रंगतों में रंगा
कब से ये दिल हैं

भारतलिरिक्स.कॉम

ऐसी इनायत हैं तू
तुझको ही देखु हरसू
साँस साँस तेरी खुशबु
मुझमे बसी हैं

बस तुझको सदा मैं देता रहा
कूद जवाबो में तू आ रही हैं

कुछ बादल पिघले होंगे तेरे नूर से
जो मिलने आ गये हैं इतनी दूर से
कुछ बादल पिघले होंगे तेरे नूर से
जो मिलने आ गये हैं इतनी दूर से

तेरी हर साँस रेशम
तेरी हर बात मरहम
करदे दूर सारे ये गम
तू एक मेहर हैं

तुझसे जो रंग चुराया
नीला वो फलक हो पाया
रोम रोम तू समाया
बनके आशिकी हैं

कर मुझपे अता राज़ मुझको बता
के तुझको बनाया हैं किसने

कुछ बादल पिघले होंगे तेरे नूर से
जो मिलने आ गये हैं इतनी दूर से
कुछ बादल पिघले होंगे तेरे नूर से
जो मिलने आ गये हैं इतनी दूर से.

Tere Noor Se Lyrics PDF Download
Print PDF      PDF Download

Leave a Reply