तुम्हारा ही इंतज़ार क्यूँ है Tumhara Hi Intezaar Kyun Hai Lyrics - Gul Saxena

TUMHARA HI INTEZAAR KYUN HAI LYRICS IN HINDI: तुम्हारा ही इंतज़ार क्यूँ है, The song is sung by Gul Saxena and released by Zee Music Company label. TUMHARA HI INTEZAAR KYUN HAI is a Love song, composed by Anu Malik, with lyrics written by Vikki Nagar.

तुम्हारा ही इंतज़ार क्यूँ है Tumhara Hi Intezaar Kyun Hai Lyrics in Hindi

मेरी निगाहों में जब भी देखूं
तुम्हारा ही इंतज़ार क्यूँ है
मेरी निगाहों में जब भी देखूं
तुम्हारा ही इंतज़ार क्यूँ है

अगर नहीं मुझको प्यार तुमसे
अगर नहीं मुझको प्यार तुमसे
ये मेरा दिल बेकरार क्यूँ है
मेरा दिल बेकरार क्यूँ है
बेकरार क्यूँ है

मेरी निगाहों में जब भी देखूं
तुम्हारा ही इंतज़ार क्यूँ है

ये पाव मेरे नहीं जमी पर
मैं चल रही हूं या उड़ रही हूं
ये पाव मेरे नहीं जमी पर
मैं चल रही हूं या उड़ रही हूं

कहा था जाना किधर चली हूं
मैं किसकी जान अब से मूड रही हूं

ना नींद आँखों में चैन दिल को
ये कैसी मुश्किल में आ गई हूं
कहा था जाना किधर चली हूं
मैं कैसी मंजिल पे आ गई हूँ

हो मुझे खुद की खबर ही नहीं है
हो मुझे खुद की खबर ही नहीं है
ना जाने ऐसा खुमार क्यूँ हे

अगर नहीं मुझको प्यार तुमसे
अगर नहीं मुझको प्यार तुमसे
ये मेरा दिल बेकरार क्यूँ है
मेरा दिल बेकरार क्यूँ है
बेकरार क्यूँ है

मेरी निगाहों में जब भी देखूं
तुम्हारा ही इंतज़ार क्यूँ है
तुम्हारा ही इंतज़ार क्यूँ है

Tumhara Hi Intezaar Kyun Hai Lyrics

Meri nigahon mein jab bhi dekhun
Tumhara hi intezar kyun hein
Meri nigahon mein jab bhi dekhun
Tumhara hi intezar kyun hein

Agar nahin mujhko pyar tumse
Agar nahin mujhko pyar tumse
Ye mera dil beqarar kyu hein
Mera dil beqarar kyu hein
Beqarar kyu hein

Meri nigahon mein jab bhi dekhun
Tumhara hi intezar kyun hein

Ye pav mere nahi zami par
Mein chal rahi hun ya udd rahi hun
Ye pav mere nahi zami par
Mein chal rahi hun ya udd rahi hun

Kaha tha jana kidhar chali hun
Mein kiski jaan ab se mood rahi hun

Na neend ankhon mein chain dil ko
Ye kaisi mushkil mein aa gayi hun
Kaha tha jana kidhar chali hun
Mein kaisi manzil pe aa gayi hun

Ho mujhe khud ki khabar hi nahin hein
Ho mujhe khud ki khabar hi nahin hein
Na jane aisa khumaar kyu hein

Agar nahin mujhko pyar tumse
Agar nahin mujhko pyar tumse
Ye mera dil beqarar kyu hein
Mera dil beqarar kyu hein
Beqarar kyu hein

Meri nigahon mein jab bhi dekhun
Tumhara hi intezar kyun hein
Tumhara hi intezar kyun hein

Tumhara Hi Intezaar Kyun Hai Lyrics PDF Download
Print Print PDF     Pdf PDF Download