ज़रिया Zariya Lyrics - Utkarsh Sharma, Muskan Gautam

ZARIYA LYRICS IN HINDI: ज़रिया This Romantic song is sung by Utkarsh Sharma and Muskan Gautam & released by Zee Music Company. ZARIYA song was composed by Satish Tripathi, with lyrics written by Satish Tripathi. The music video of this track is picturised on Shivaay SKD and Almas Khan.

ज़रिया Zariya Lyrics in Hindi

ज़रिया जीने का था तुमसे
जीना अभी कुछ बाकी है
फिर कब मिलोगी मुझको
तुमसे कहना अभी कुछ बाकी है

ख़्वाहिश का रंग था तुम्हारे ही दम से
मोसम बदलना अभी बाकी है
थी मौत सर सी मुलाक़ात दिलों की
रूह तक उतरना अभी बाकी है
बाकी है अभी कुछ बाकी है

कुर्बत में तेरी सुकून यूं है मिलता है
जैसे सेहरा हो चाँद के संग
कुर्बत में तेरी सुकून यूं है मिलता है
जैसे सेहरा हो चाँद के संग
मिल जाओ मुझको भी तुम इस तरह
जैसे मसवीर के हाथों में रंग

वैसे तो मुझको है मिल गया तू
पाना अभी कुछ बाकी है
बे इम्तिहान हम भले तुमको चाहे
जताना अभी कुछ बाकी है

ख़्वाहिश का रंग था तुम्हारे ही दम से
मोसम बदलना अभी बाकी है
थी मौत सर सी मुलाक़ात दिलों की
रूह तक उतरना अभी बाकी है
बाकी है अभी कुछ बाकी है

तू हमसफ़र था हमसफ़र है
हमसफ़र ही रहेगा मेरा
कुछ बात दिल में छुपा के ही रखना
हम ढूँढ लेंगे वहा

मेरी अनकही मेरी आँखों से तुझको
पढ़ना भी कुछ बाकी है
कुछ बाते दिल की समझी है तुमने
समझना अभी कुछ बाकी है

ख़्वाहिश का रंग था तुम्हारे ही दम से
मोसम बदलना अभी बाकी है
यह मौत सर सी मुलाक़ात दिलों की
रूह तक उतरना अभी बाकी है
बाकी है अभी कुछ बाकी है

ज़रिया जीने का था तुमसे
जीना अभी कुछ बाकी है
कुछ बाकी है

Zariya Lyrics

Zariya jeene ka tha tumse
Jeena abhi kuch baki hein
Phir kab milogi mujhko
Tumse kehna abhi kuch baki hein

Khwaish ka rang tha tumhare hi dum se
Mosam badalana abhi baki hein
Thi mout sar si mulakat dilon ki
Rooh tak utarna abhi baki hein
Baki hein abhi kuch baki hein

Qurbat mein teri sukoon yun he milta
Jaise sehraa ho chaand ke sang
Qurbat mein teri sukoon yun he milta
Jaise sehraa ho chaand ke sang
Mil jao mujhko bhi tum iss tarah
Jaise massvir ke hathon mein rang

Waise to mujhko he mil gaya tu
Pana abhi kuch baki hein
Be imtihaan hum bhale tumko chahe
Jatana abhi kuch baki hein

Khwaish ka rang tha tumhare hi dum se
Mosam badalana abhi baki hein
Thi mout sar si mulakat dilon ki
Rooh tak utarna abhi baki hein
Baki hein abhi kuch baki hein

Tu humsafar tha humsafar hein
Humsafar hi rahega mera
Kuch baate dil mein chhupa ke hi rakhna
Hum dhoondh lenge waha

Meri unkahin meri aankhon se tujhko
Padhna bhi kuch baki hein
Kuch baat dil ki samji hein tumne
Samjana abhi kuch baki hein

Khwaish ka rang tha tumhare hi dum se
Mosam badalana abhi baki hein
Thi mout sar si mulakat dilon ki
Rooh tak utarna abhi baki hein
Baki hein abhi kuch baki hein

Zariya jeene ka tha tumse
Jeena abhi kuch baki hein
Kuch baki hein

Zariya Lyrics PDF Download
Print Print PDF     Pdf PDF Download

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *