Zidd Lyrics - Nikhita Gandhi

Zidd Lyrics - Nikhita Gandhi

ZIDD LYRICS IN HINDI: 'ज़िद' The song is sung by Nikhita Gandhi from the soundtrack album for the film Rashmi Rocket, directed by Akarsh Khurana, starring Taapsee Pannu, Priyanshu Painyuli and Abhishek Banerjee. "ZIDD" is a Motivational song, composed by Amit Trivedi, with lyrics written by Kausar Munir.

Zidd Song Lyrics

Na zamane bhar ke bawalon se
Na jawabon se na sawalon se
Na dil ke tukde karne walon se

Ab main khud se ladd gayi hoon
Ab main hadd se badh gayi hoon
Jo chahe karle zamana
Ab main zid pe add gayi hoon

bharatlyrics.com

Ab main khud se ladd gayi hoon
Ab main hadd se badh gayi hoon
Jo chahe karle zamana
Ab main zidd pe add gayi hoon

Tak tak rode daale rasta
Thokar dekar bhaage rasta
Bhaag ke jayega tu kahan pe
Ab main pichhe pad gayi hoon

Rag rag mein daude hai junoon bas
Manzil se milke hai sukoon bas
Lakh bichado path mein kaante
Ab main darr se ukhad gayi hoon

Ab main teh tak gadd gayi hoon
Ab main sar pe chadh gayi hoon
Jo chahe karle zamana
Ab main zidd pe add gayi hoon

Ab main khud se ladd gayi hoon
Ab main hadd se badh gayi hoon
Jo chahe karle zamana
Ab main zidd pe add gayi hoon

Na zamane bhar ke ilzaamon se
Na toh apno se na anjaanon se
Na haar jeet ke anjaamon se

Ab main khud se ladd gayi hoon
Ab main hadd se badh gayi hoon
Jo chahe karle zamana
Ab main zid pe add gayi hoon

Ab main khud se ladd gayi hoon
Ab main hadd se badh gayi hoon
Jo chahe karle zamana
Ab main zidd pe add gayi hoon.

ज़िद Lyrics in Hindi

ना ज़माने भर के बवालों से
ना जवाबों से ना सवालों से
ना दिल के टुकड़े करने वालों से

अब मैं खुद से लड़ गयी हूँ
अब मैं हद से बढ़ गयी हूँ
जो चाहे करले ज़माना
अब मैं ज़िद पे अड़ गयी हूँ

अब मैं खुद से लड़ गयी हूँ
अब मैं हद से बढ़ गयी हूँ
जो चाहे करले ज़माना
अब मैं ज़िद पे अड़ गयी हूँ

तक तक रोड़े डाले रास्ता
ठोकर देकर भागे रास्ता
भाग के जायेगा तू कहाँ पे
अब मैं पीछे पड़ गयी हूँ

रग रग में दौड़े है जूनून बस
मंज़िल से मिलके है सुकून बस
लाख बिछडो पथ में कांटे
अब मैं डर से उखड गयी हूँ

अब मैं तेह तक गड गयी हूँ
अब मैं सर पे चढ़ गयी हूँ
जो चाहे करले ज़माना
अब मैं ज़िद पे अड़ गयी हूँ

अब मैं खुद से लड़ गयी हूँ
अब मैं हद से बढ़ गयी हूँ
जो चाहे करले ज़माना
अब मैं ज़िद पे अड़ गयी हूँ

ना ज़माने भर के इल्ज़ामों से
ना तोह अपनों से ना अनजानों से
ना हार जीत के अंजामों से

अब मैं खुद से लड़ गयी हूँ
अब मैं हद से बढ़ गयी हूँ
जो चाहे करले ज़माना
अब मैं ज़िद पे अड़ गयी हूँ

भारतलिरिक्स.कॉम

अब मैं खुद से लड़ गयी हूँ
अब मैं हद से बढ़ गयी हूँ
जो चाहे करले ज़माना
अब मैं ज़िद पे अड़ गयी हूँ.

Zidd Lyrics PDF Download
Print PDF      PDF Download

Leave a Reply