Chai Ki Chuskurahat Lyrics - Abhinav Shekhar

Chai Ki Chuskurahat Lyrics - Abhinav Shekhar

CHAI KI CHUSKURAHAT LYRICS IN HINDI: चाय की चुस्कुराहट, The song is sung by Abhinav Shekhar and released by BLive Music label. CHAI KI CHUSKURAHAT is a Romantic song, composed by Abhinav Shekhar, with lyrics written by Abhinav Shekhar.

Chai Ki Chuskurahat Song Lyrics

Chai ki chuskurahaton mein
Khili khili si ik hansi hain
Dabi dabi si muskurahaton mein
Dil ki dor kone mein kahin fasi hain

Chai ki chuskurahaton mein
Khili khili si ik hansi hain
Dabi dabi si muskurahaton mein
Dil ki dor kone mein kahin fasi hain

Na jante hain hum na maante ho tum
Na jante hain hum na maante ho tum
Shararaton mein kesi yeh nami hain

Aawara dil mera savera andhera
Saare pehron mein yeh ek sa laage
Kabhi yeh gumsuda sa juda sa khuda sa
Saaton rango mein bhi ek sa laage

Aawara dil mera savera andhera
Saare pehron mein yeh ek sa laage
Kabhi yeh gumsuda sa juda sa khuda sa
Saaton rango mein bhi ek sa laage

Chai ki chuskurahaton mein
Khili khili si ik hansi hain

Jugnuon se jagmagate nazme
Kar rahe the kuchh ishare
Bulbulo se badh rahin thi saansein
Sehme baithe nadi ke uss kinare

Jugnuon se jagmagate nazme
Kar rahe the kuchh ishare
Bulbulo se badh rahin thi saansein
Sehme baithe nadi ke uss kinare

Deewangi bhi thi rawangi bhi thi
Deewangi bhi thi rawangi bhi thi
Dono ek dooje ke sahare

Aawara dil mera savera andhera
Saare pehron mein yeh ek sa laage
Kabhi yeh gumsuda sa juda sa khuda sa
Saaton rango mein bhi ek sa laage

Aawara dil mera savera andhera
Saare pehron mein yeh ek sa laage
Kabhi yeh gumsuda sa juda sa khuda sa
Saaton rango mein bhi ek sa laage

Chai ki chuskurahaton mein
Khili khili si ik hansi hain.

चाय की चुस्कुराहट Lyrics in Hindi

चाय की चुस्कुराहटों में
खिली खिली सी इक हंसी हैं
दबी दबी सी मुस्कुराहटों में
दिल की डोर कोने में कहीं फसी हैं

चाय की चुस्कुराहटों में
खिली खिली सी इक हंसी हैं
दबी दबी सी मुस्कुराहटों में
दिल की डोर कोने में कहीं फसी हैं

ना जानते हैं हम ना मानते हो तुम
ना जानते हैं हम ना मानते हो तुम
शरारतों में कैसी ये नमी हैं

आवारा दिल मेरा सवेरा अँधेरा
सारे पहरों में ये एक सा लगे
कभी ये गुमसुदा सा जुड़ा सा खुदा सा
सातों रंगो में भी एक सा लगे

आवारा दिल मेरा सवेरा अँधेरा
सारे पहरों में ये एक सा लगे
कभी ये गुमसुदा सा जुदा सा खुदा सा
सातों रंगो में भी एक सा लगे

bharatlyrics.com

चाय की चुस्कुराहटों में
खिली खिली सी इक हंसी हैं

जुगनुओं से जगमगाते नज़्मे
कर रहे थे कुछ इशारे
बुलबुलो से बढ़ रहीं थी सांसें
सहमे बैठे नदी के उस किनारे

जुगनुओं से जगमगाते नज़्मे
कर रहे थे कुछ इशारे
बुलबुलो से बढ़ रहीं थी सांसें
सहमे बैठे नदी के उस किनारे

दीवानगी भी थी रवानगी भी थी
दीवानगी भी थी रवानगी भी थी
दोनों एक दूजे के सहारे

आवारा दिल मेरा सवेरा अँधेरा
सारे पहरों में ये एक सा लगे
कभी ये गुमसुदा सा जुदा सा खुदा सा
सातों रंगो में भी एक सा लगे

आवारा दिल मेरा सवेरा अँधेरा
सारे पहरों में ये एक सा लगे
कभी ये गुमसुदा सा जुदा सा खुदा सा
सातों रंगो में भी एक सा लगे

चाय की चुस्कुराहटों में
खिली खिली सी इक हंसी हैं.

Chai Ki Chuskurahat Lyrics PDF Download
Print PDF      PDF Download

Leave a Reply