चौदहवीं शब Chaudhavi Shab Lyrics - Shreya Ghoshal

चौदहवीं शब Chaudhavi Shab Lyrics in Hindi

चौदहवीं शब को कहाँ चाँद कोई ढलता है
चौदहवीं शब को कहाँ चाँद कोई ढलता है
हाय पानी में हाय पानी में कौन जलता है
चौदहवीं शब को कहाँ चाँद कोई ढलता है
चौदहवीं शब को कहाँ चाँद कोई ढलता है

दर्द ऐसा के हंसी आती है
साँस सीने में फसी जाती है
जिसमें काँटे बिछे हो मंज़िल तक
जिसमें काँटे बिछे हो मंज़िल तक
ऐसे रास्ते पे कौन चलता है

हाय पानी में हाय पानी में
हाय पानी में कौन जलता है
चौदहवीं शब को कहाँ चाँद कोई ढलता है
चौदहवीं शब को कहाँ चाँद कोई ढलता है

जीता हुआ इश्क़ हार बैठे हैं
इसी तरह दिल को मार बैठे हैं
जैसे हमने मले हैं हाथ अपने
जैसे हमने मले हैं हाथ अपने
ऐसे हाथों को कौन मलता है

हाय पानी में
हाँ हाय पानी में कौन जलता है
चौदहवीं शब को कहाँ चाँद कोई ढलता है
चौदहवीं शब को कहाँ चाँद कोई ढलता है

Chaudhavi Shab Lyrics

Chaudhavi shab ko kahan chand koi dhalta hai
Chaudhavi shab ko kahan chand koi dhalta hai
Haye pani mein haye pani mein kon jalta hai
Chaudhavi shab ko kahan chand koi dhalta hai
Chaudhavi shab ko kahan chand koi dhalta hai

Dard aisa ke hansi aati hai
Saans seene mein fasi jaati hai
Jisme kantein bichhe ho manzil tak
Jisme kantein bichhe ho manzil tak
Aise raste pe kon chalta hai

Haye pani mein haye pani mein
Haye pani mein kon jalta hai
Chaudhavi shab ko kahan chand koi dhalta hai
Chaudhavi shab ko kahan chand koi dhalta hai

Jeeta hua ishq haar baithe hain
Isi tarah dil ko maar baithe hai
Jaise hamne male hai haath apne
Jaise hamne male hai haath apne
Aise hathon ko kon malta hai

Haye pani mein
Haan haye pani mein kon jalta hai
Chaudhavi shab ko kahan chand koi dhalta hai
Chaudhavi shab ko kahan chand koi dhalta hai

Chaudhavi Shab Lyrics PDF Download
Print Print PDF     Pdf PDF Download