हर हर संभू Har Har Shambhu Lyrics - Jubin Nautiyal

हर हर संभू, HAR HAR SHAMBHU HINDI LYRICS is recorded by Jubin Nautiyal from T-Series label. The music of "HAR HAR SHAMBHU" song is composed by Payal Dev, while the lyrics are penned by Manoj Muntashir. The music video of the track features Mohit Chauhan, Palash Tiwari and Manoj Dutt.

Har Har Shambhu Lyrics

bharatlyrics.com

Chandrma lalaat jaage
Jataon mein ganga soi
Tere jaisa aadi yogi
Hua hai na hoga koi

Chandrma lalaat jaage
Jataon mein ganga soi
Tere jaisa aadi yogi
Hua hai na hoga koi

Baba itna saral tu
Har prarthna ka fal tu
Mere bhole sambhu
Har har sambhu
Nirbalon ka hai bal tu

Hai maati ke diye hum toh
Hawa se kaise takraate
Tere haathon ne ghera hai
Nahi toh kabke bujh jaate

Hai maati ke diye hum toh
Hawa se kaise takraate
Tere haathon ne ghera hai
Nahi toh kabke bujh jaate

Dukh ke silbatein aayi
Jab hamare maathe par
Koi doondha shivala
Aur juka diya hai sar

Dhadkano se aati hai
Ab kahan dhvani koi
Aatho peher seene mein
Gunjta hai har har har

Baba darshan tu nayan tu
Baba ratnon ka ratan tu
Mere bhole sambhu har har sambhu
Nirdhano ka hai dhan tu

Tere pagg mein na jhukte to
Utha ke sar na jee paate
Tere bin kon hai maruthal mein
Bhi jo megh barsa de

Hai maati ke diye hum toh
Hawa se kaise takraate
Tere haathon ne ghera hai
Nahi toh kabke bujh jaate

Daniyon ka daani hai tu
Saari srasti yaachak hai
Naath bhay use hai kiska
Jo tera upashak hai

Aate jaate rehte hai
Dhoop chhaon se naate
Tu pita hai teri karuna
Janm se chita tak hai

Baba jeevan tu maran tu
Baba mamta ki chhuan tu
Mere bhole sambhu har har sambhu
Sab sukhon ka kaaran tu

Koi ginti nahi jag mein
Karm tere jo ginwa de
Samndar sihayi hota to
Tere upkaar likh paate

Hai maati ke diye hum toh
Hawa se kaise takraate
Tere haathon ne ghera hai
Nahi toh kabke bujh jaate

Hai maati ke diye hum toh
Hawa se kaise takraate
Tere haathon ne ghera hai
Nahi toh kabke bujh jaate

हर हर संभू Lyrics in Hindi

चंद्रमा ललाट जागे
जटाओं में गंगा सोई
तेरे जैसा आदि योगी
हुआ है ना होगा कोई

चंद्रमा ललाट जागे
जटाओं में गंगा सोई
तेरे जैसा आदि योगी
हुआ है ना होगा कोई

भारतलिरिक्स.कॉम

बाबा इतना सरल तू
हर प्रार्थना का फल तू
मेरे भोले संभु हर हर संभू
निर्बलों का है बल तू

है माटी के दिये हम तो
हवा से कैसे टकराते
तेरे हाथों ने घेरा है
नहीं तो कबके बुझ जाते

है माटी के दिये हम तो
हवा से कैसे टकराते
तेरे हाथों ने घेरा है
नहीं तो कबके बुझ जाते

दुख के सिलवटे आई
जब हमारे माथे पर
कोई ढूंढा शिवाला
और झुक दिया है सर

धड़कनो से आती है
अब कहां ध्वनि कोई
आठो पहर सीने में
गुंजता है हर हर हर

बाबा दर्शन तू नयन तू
बाबा रत्नों का रतन तू
मेरे भोले संभु हर हर संभू
निर्धनो का है धन तू

तेरे पैग में ना झुकते तो
उठा के सर ना जी पाते
तेरे बिन कोन है मरुथल में
भी जो मेघ बरसा दे

है माटी के दिये हम तो
हवा से कैसे टकराते
तेरे हाथों ने घेरा है
नहीं तो कबके बुझ जाते

दानियों का दानी है तू
सारी सृष्टि याचक है
नाथ भय उसे है किसका
जो तेरा उपासक है

आते जाते रहते हैं
धूप छाँव से नाते
तू पिता है तेरी करुणा
जन्म से चिता तक है

बाबा जीवन तू मरण तू
बाबा ममता की छुअन तू
मेरे भोले संभु हर हर संभू
सब सुखों का कारण तू

कोई गिनती नहीं जग में
कर्म तेरे जो गिनावा दे
समंदर स्याही होता तो
तेरे उपकार लिख पाते

है माटी के दिये हम तो
हवा से कैसे टकराते
तेरे हाथों ने घेरा है
नहीं तो कबके बुझ जाते

है माटी के दिये हम तो
हवा से कैसे टकराते
तेरे हाथों ने घेरा है
नहीं तो कबके बुझ जाते

Har Har Shambhu Lyrics PDF Download
Print Print PDF     Pdf PDF Download

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *