Qanoon Lyrics - Satinder Sartaaj

Qanoon Lyrics - Satinder Sartaaj

QANOON LYRICS IN HINDI: कानून, The song is sung by Satinder Sartaaj and released by Saga Music label. QANOON is a Philosophical song, composed by Beat Minister, with lyrics written by Satinder Sartaaj.

कानून Lyrics in Hindi

मेरी एक गुजारिश है
कानून बनाने वालों से

मेरी एक गुजारिश है
कानून बनाने वालों से
भारतलिरिक्स.कॉम

अब तक मुद्दे बिगड़े ही है
आफत और बवालों से
मेरी एक गुजारिश है
कानून बनाने वालों से

बहुत से ऐसे वाकयात जो
जो पेहली बार ही होते है
बहुत से ऐसे हादसात जो
जो पेहली बार ही होते हैं

बहुत से ऐसे वाकयात जो
जो पेहली बार ही होते है
बहुत से ऐसे हादसात जो
जो पेहली बार ही होते है

उनमें गलत सही अब कैसे
साबित करे हवालों से
मेरी एक गुजारिश है
कानून बनाने वालों से

अब तक मुद्दे बिगड़े ही है
आफत और बवालों से
मेरी एक गुजारिश है
कानून बनाने वालों से

खेल ज़िंदगी के ना
जीते गए कभी चालाकी से
ना ही ज्यादा कम दिलियों से
और ना ही बेबाकी से

खेल ज़िंदगी के ना
जीते गए कभी चालाकी से
ना ही ज्यादा कम दिलीयों से
और ना ही बेबाकी से

ये बाज़ी पेचीदा है
शायद सतरंज की चलो से
मेरी एक गुजारिश है
कानून बनाने वालों से

अब तक मुद्दे बिगड़े ही है
आफत और बवालों से
मेरी एक गुजारिश है
कानून बनाने वालों से

यूं तो चाहे खून रिसाले छापो
और मज्मून लिखो
हल्ला करके अखबारों से
चाहे फिर कानून लिखो

यूं तो चले खूब रिसाले छापो
और मज्मून लिखो
हल्ला करके अखबारों से
चाहे फिर कानून लिखो

हल तो आखिर निकलेगा
बुनयादी असल सवालों से
मेरी एक गुजारिश है
कानून बनाने वालों से

अब तक मुद्दे बिगड़े ही है
आफत और बवालों से
मेरी एक गुजारिश है
कानून बनाने वालों से

वैसे तो अगर सोचे तो
सब कागज़ के फरमान ही हैं
कुव्वत ही मेहदूद क्योंकि
मुंसिफ़ भी इंसान ही है

वैसे तो अगर सोचे तो
सब कागज़ के फरमान ही हैं
कुव्वत ही मेहदूद क्योंकि
मुंसिफ़ भी इंसान ही है

खून टपकता देखा है
इंसाफ के बुत्त की गालों से
मेरी एक गुजारिश है
कानून बनाने वालों से

अब तक मुद्दे बिगड़े ही है
आफत और बवालों से
मेरी एक गुजारिश है
कानून बनाने वालों से

पलक झपकते दुनिया बदले
ऐसा हुआ ना होगा भी
जिम्मेदार बराबर के है
सरदार भी और दरोगा भी

ज़रा ज़रा से फरक पड़ेंगे
इन्न सरताज ख़यालों से
मेरी एक गुजारिश है
कानून बनाने वालों से

अब तक मुद्दे बिगड़े ही है
आफत और बवालों से
मेरी एक गुजारिश है
कानून बनाने वालों से
मेरी एक गुजारिश है
कानून बनाने वालों से.

Qanoon Song Lyrics

Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se
Ab tak mudde bigade hi hai
Aafat aur bawalon se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Bahut se aise waakyat jo
Jo pehli baar hi hote hain
Bahut se aise haadsaat jo
Jo pehli baar hi hote hain

Bahut se aise waakyat jo
Jo pehli baar hi hote hain
Bahut se aise haadsaat jo
Jo pehli baar hi hote hain

Unmein galat sahi ab kaise
Saabit kare hawalo se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Ab tak mudde bigade hi hai
Aafat aur bawalon se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Khel zindagi ke na
Jeete gaye kabhi chalaki se
Na hi jyada kam diliyon se
Aur na hi bebaaki se

Khel zindagi ke na
Jeete gaye kabhi chalaki se
Na hi jyada kam diliyon se
Aur na hi bebaaki se

Yeh baazi paichida hai
Shayad satranz ki chalo se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Ab tak mudde bigade hi hai
Aafat aur bawalon se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

bharatlyrics.com

Yun to chahe khoob risale chapo
Aur mazmoon likho
Halla karke akhbaron se
Chahe phir qanoon likho

Yun to chahe khoob risale chapo
Aur mazmoon likho
Halla karke akhbaron se
Chahe phir qanoon likho

Hal to aakhir niklenge
Bunyadi asal sawalon se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Ab tak mudde bigade hi hai
Aafat aur bawalon se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Waise to agar soche to
Sab kagaz ke farman hi hain
Kuwwat hai mehdudh kyonki
Munsif bhi insaan hi hai

Waise to agar soche to
Sab kagaz ke farman hi hain
Kuwwat hai mehdudh kyonki
Munsif bhi insaan hi hai

Khoon tapkata dekha hai
Insaaf ke butt ki gaalon se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Ab tak mudde bigade hi hai
Aafat aur bawalon se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Palak jhapakte duniya badle
Aisa hua na hoga bhi
Zimmedaar barabar ke hai
Sadar bhi aur daroga bhi

Palak jhapakte duniya badle
Aisa hua na hoga bhi
Zimmedaar barabar ke hai
Sadar bhi aur daroga bhi

Zara zara se farak padenge
Inn sartaaj khayalon se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Ab tak mudde bigade hi hai
Aafat aur bawalon se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se.

Qanoon Lyrics PDF Download
Print PDF      PDF Download

Leave a Reply