शिद्दत Shiddat Lyrics - Kumar Sanu, Rani Shakya

SHIDDAT LYRICS IN HINDI: शिद्दत, The song is sung by Kumar Sanu and Rani Shakya and released by Rani Shakya label. SHIDDAT is a Romantic song, composed by Nil Shakya, with lyrics written by Nishila Shakya. The music video of this song is picturised on Avishek Khadka and Kusum Sharma.

शिद्दत Shiddat Lyrics in Hindi

तुझको बनाकर अपना खुदा
जहाँ को मैं भुला दूं
हर राह मेरी तुझ पे रुके
दिल से सजदा यही मैं करूं

तुझ में ही मिट जाना है मुझे
आ तुझे जन्नत बना लूं

शिद्दत से मांगी दुआ हो तुम
काफ़िर इस दिल की पनाह बना लूं
जाए न वो आदत कभी मेरी
तुझको मैं वो जीत बना लूं

तुझ में ही मिट जाना है मुझे
आ तुझे जन्नत बना लूं

तेरे इश्क में है अब मेरी रिहाई
तुझ में ही है अब मेरी फ़िदाई
तेरे इश्क में है अब मेरी रिहाई
तुझ में ही है अब मेरी फ़िदाई

टूट न जाए धागा कभी
आ तुझे रेशम बना लूं
तुझ में ही मिट जाना है मुझे
आ तुझे जन्नत बना लूं

अधूरी थी लिखावट किताबी वो
मिल गई उस पर इश्क की वफाई
अधूरी थी लिखावट किताबी वो
मिल गई उस पर इश्क की वफाई

अपने वश में हो अगर
वक्त को भी मैं क़ैद कर लूं
तुझ में ही मिट जाना है मुझे
आ तुझे जन्नत बना लूं

तुझको बनाकर अपना खुदा
जहाँ को मैं भुला दूं
हर राह मेरी तुझ पे रुके
दिल से सजदा यही मैं करूं

तुझ में ही मिट जाना है मुझे
आ तुझे जन्नत बना लूं

शिद्दत से मांगी दुआ हो तुम
काफ़िर इस दिल की पनाह बना लूं
जाए न वो आदत कभी मेरी
तुझको मैं वो जीत बना लूं

तुझ में ही मिट जाना है मुझे
आ तुझे जन्नत बना लूं

तुझको बनाकर अपना खुदा
जहाँ को मैं भुला दूं
हर राह मेरी तुझ पे रुके
दिल से सजदा यही मैं करूं

तुझ में ही मिट जाना है मुझे
आ तुझे जन्नत बना लूं

शिद्दत से मांगी दुआ हो तुम
काफ़िर इस दिल की पनाह बना लूं
जाए न वो आदत कभी मेरी
तुझको मैं वो जीत बना लूं

तुझ में ही मिट जाना है मुझे
आ तुझे जन्नत बना लूं

Shiddat Lyrics

Tujhko banakar apna khuda
Jahan ko main bhula doon
Har raah meri tujh pe ruke
Dil se sajda yahi main karoon

Tujhe mein hi mit jaana hai mujhe
Aa tujhe jannat bana loon

Shiddat se maangi dua ho tum
Kafir is dil ki panah bana loon
Jaaye na wo aadat kabhi meri
Tujhko main wo jeet bana loon

Tujh mein hi mit jaana hai mujhe
Aa tujhe jannat bana loon

Tere ishq mein hai ab meri rihaai
Tujh mein hi hai ab meri fidaai
Tere ishq mein hai ab meri rihaai
Tujh mein hi hai ab meri fidaai

Toot na jaaye dhaaga kabhi
Aa tujhe resham bana loon
Tujh mein hi mit jaana hai mujhe
Aa tujhe jannat bana loon

Adhoori thi likhawat kitaabi wo
Mil gayi us par ishq ki wafai
Adhoori thi likhawat kitaabi wo
Mil gayi us par ishq ki wafai

Apne vash mein ho agar
Waqt ko bhi main qaid kar loon
Tujh mein hi mit jaana hai mujhe
Aa tujhe jannat bana loon

Tujhko banakar apna khuda
Jahan ko main bhula doon
Har raah meri tujh pe ruke
Dil se sajda yahi main karoon

Tujh mein hi mit jaana hai mujhe
Aa tujhe jannat bana loon

Shiddat se maangi dua ho tum
Kafir is dil ki panah bana loon
Jaaye na wo aadat kabhi meri
Tujhko main wo jeet bana loon

Tujh mein hi mit jaana hai mujhe
Aa tujhe jannat bana loon

Tujhko banakar apna khuda
Jahan ko main bhula doon
Har raah meri tujh pe ruke
Dil se sajda yahi main karoon

Tujhe mein hi mit jaana hai mujhe
Aa tujhe jannat bana loon

Shiddat se maangi dua ho tum
Kafir is dil ki panah bana loon
Jaaye na wo aadat kabhi meri
Tujhko main wo jeet bana loon

Tujh mein hi mit jaana hai mujhe
Aa tujhe jannat bana loon

Shiddat Lyrics PDF Download
Print Print PDF     Pdf PDF Download

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *