Vadh (Title Track) Lyrics - Jasbir Kainth

Vadh (Title Track) Lyrics - Jasbir Kainth

वध (टाइटल ट्रैक) | VADH (TITLE TRACK) LYRICS IN HINDI: The song is recorded by Jasbir Kainth from Hindi film Vadh, directed by Jaspal Singh Sandhu and Rajeev Barnwal. The film stars Neena Gupta, Umesh Kaushik and Diwakar Kumar in lead role. The music of "VADH (TITLE TRACK)" song is composed by Mofusion, while the lyrics are penned by Naveen Kumar.

Vadh (Title Track) Song Lyrics

Ye tera hi to dosh hai
Tu kyun khada khamosh hai
Ek sehane ki bhi hoti hai had

Tere saansh ki naa hai sima koi
Naa hi dard ki hai sarhad

Door kar tu apna dar
Samne tu rakhna sar
Dekh jhuth ka hai chhota kad

Ye dil ki jo pukar hai
Wo krishn ka avatar hai
Iss paap ka karde jad se vadh

Aansu teri jwala hai
Ek aag ka pyala hai
Iss aag mein iss jalim ko jhonk de

Ek nanhi si jaan hai jo
Kha raha hai maar hai
Tu bhej iss haivan ko parlok te

Ek baat meri jaan le
Ek baat meri maan le
Koi hai nahi jo sath hona
Hai koi jo sath de

Sach se uncha hai nahi
Koi bhi vikalp

Iss paap ka tu karde jad se vadh
Iss paap ka tu karde jad se vadh
Iss paap ka tu karde jad se vadh

Tujhme hi chandal hai
Tuhi mahakaal hai
Khol apni tisri tu aankh de

Ye zindagi ka bhag hai
Jo tujhme chhupi aag hai
Iss aag se tu paap ko kar raakh de

Ab itana bhi tu soch na
Khud ko yun tu rok na
Tere dil ki jo aawaj
Usko aur ab tu tok na

Baad mein tu soch na
Ye neki hai ya vadh

Iss paap ka tu karde jad se vadh
Iss paap ka tu karde jad se vadh
Iss paap ka tu karde jad se vadh
Iss paap ka tu karde jad se vadh.

वध (टाइटल ट्रैक) Lyrics in Hindi

ये तेरा ही तो दोष है
तू क्यूँ खड़ा खामोश है
एक सहने की भी होती है हद

तेरे सांस की ना है सीमा कोई
ना ही दर्द की है सरहद

दूर कर तू अपना डर
सामने तू रखना सर
देख झूठ का है छोटा कद

ये दिल की जो पुकार है
वो कृष्ण का अवतार है
इस पाप का तू करदे जड़ से वध

आंसू तेरी ज्वाला है
एक आग का प्याला है
इस आग में इस जालिम को झोंक दे

एक नन्ही सी जान है जो
खा रहा है मार है
तू भेज इस हैवान को परलोक ते

एक बात मेरी जान ले
एक बात मेरी मान ले
कोई है नहीं जो साथ होना
है कोई जो साथ दे

bharatlyrics.com

सच से ऊंचा है नहीं
कोई भी विकल्प

इस पाप का तू करदे जड़ से वध
इस पाप का तू करदे जड़ से वध
इस पाप का तू करदे जड़ से वध

तुझमें ही चंडाल है
तुही महाकाल है
खोल अपनी तीसरी तू आँख दे

ये जिंदगी का भाग है
जो तुझमें छिपी आग है
इस आग से तू पाप को कर राख दे

अब इतना भी तू सोच ना
खुद को यूं तू रोक ना
तेरे दिल की जो आवाज़
उसको और अब तू टोक ना

बाद में तू सोच ना
ये नेकी है या वध

इस पाप का तू करदे जड़ से वध
इस पाप का तू करदे जड़ से वध
इस पाप का तू करदे जड़ से वध
इस पाप का तू करदे जड़ से वध.

Vadh (Title Track) Lyrics PDF Download
Print PDF      PDF Download