Wafa Na Raas Aayee Lyrics - Nitin Mukesh Chand Mathur

Wafa Na Raas Aayee Lyrics - Nitin Mukesh Chand Mathur

Wafa Na Raas Aayee lyrics, वफ़ा ना रास आयी the song is sung by Nitin Mukesh Chand Mathur from Bewafa Sanam (1995). The music of Wafa Na Raas Aayee Sad track is composed by Nikhil, Vinay while the lyrics are penned by Yogesh Gaud.

Wafa Na Raas Aayee Song Lyrics

Wafa na ras aayi tujhe o harjai
Wafa na ras aayi tujhe o harjai
Mujhe o bewafa jara ye to bata
Tune aag ye kaisi lagai
Wafa na ras aayi tujhe o harjai
Wafa na ras aayi tujhe o harjai
Mujhe o bewafa jara ye to bata
Tune aag ye kaisi lagai
Wafa na ras aayi tujhe o harjai

bharatlyrics.com

Daulat ke nashe mein tune mujhe
Nazro se apni door kiya
Daulat ke nashe mein tune mujhe
Nazro se apni door kiya
Mere pyar ka shish mahal tune
Ek pal mein chakna chur kiya
Mujhe deke yu gham aise karke sitam
Tune meri wafa thukrayi
Wafa na ras aayi tujhe o harjai
Wafa na ras aayi tujhe o harjai

Tune rup fizao ka baksha
Mere gulshan ki haryali ko
Tune rup fizao ka baksha
Mere gulshan ki haryali ko
Abad nashe man tha jis par
Tune kat diya us dali ko
Mere sine ke sukh diye tune hai dukh
Sari rashme kasme bhulai
Wafa na ras aayi tujhe o harjai
Wafa na ras aayi tujhe o harjai

Mohlat na mile shayad mujhko
Ab tujhse bichad ke milne ki
Mohlat na mile shayad mujhko
Ab tujhse bichad ke milne ki
Arman hue sab khak mere
Khwahish na rahi ab jine ki
Yaado ki chubhan sanso ki agan
Mere man hai aaj shamai
Wafa na ras aayi tujhe o harjai
Wafa na ras aayi tujhe o harjai
Mujhe o bewafa jara ye to bata
Tune aag ye kaisi lagai
Wafa na ras aayi tujhe o harjai
Wafa na ras aayi tujhe o harjai
Wafa na ras aayi tujhe o harjai
Wafa na ras aayi tujhe o harjai.

वफ़ा ना रास आयी Lyrics in Hindi

वफ़ा न रास आई तुझे ओ हरजाई
वफ़ा न रास आई तुझे ओ हरजाई
मुझे ओ बेवफा जरा ये तो बता
तूने आग ये कैसी लगी
वफ़ा न रास आई तुझे ओ हरजाई
वफ़ा न रास आई तुझे ओ हरजाई
मुझे ओ बेवफा जरा ये तो बता
तूने आग ये कैसी लगी
वफ़ा न रास आई तुझे ओ हरजाई

भारतलिरिक्स.कॉम

दौलत के नशे में तूने मुझे
नज़रों से अपनी दूर किया
दौलत के नशे में तूने मुझे
नज़रों से अपनी दूर किया
मेरे प्यार का शीश महल तूने
एक पल में चकना चूर किया
मुझे देके यु ग़म ऐसे करके सितम
तूने मेरी वफ़ा ठुकराई
वफ़ा न रास आई तुझे ओ हरजाई
वफ़ा न रास आई तुझे ओ हरजाई

तूने रूप फिज़ाओ का बक्षा
मेरे गुलशन की हरयाली को
तूने रूप फिज़ाओ का बक्षा
मेरे गुलशन की हरयाली को
आबाद नशे में था जिस पर
तूने काट दिया उस डाली को
मेरे सीने के सुख दिए तूने है दुःख
साडी रश्मे कस्मे भुलाई
वफ़ा न रास आई तुझे ओ हरजाई
वफ़ा न रास आई तुझे ओ हरजाई

मोहलत न मिले शायद मुझको
अब तुझसे बिछड़ के मिलने की
मोहलत न मिले शायद मुझको
अब तुझसे बिछड़ के मिलने की
अरमान हुए सब खाक मेरे
ख्वाहिश न रही अब जीने की
यादो की चुभन सांसो की अगन
मेरे मन है आज शमे
वफ़ा न रास आई तुझे ओ हरजाई
वफ़ा न रास आई तुझे ओ हरजाई
मुझे ओ बेवफा जरा ये तो बता
तूने आग ये कैसी लगी
वफ़ा न रास आई तुझे ओ हरजाई
वफ़ा न रास आई तुझे ओ हरजाई
वफ़ा न रास आई तुझे ओ हरजाई
वफ़ा न रास आई तुझे ओ हरजाई.

Wafa Na Raas Aayee Lyrics PDF Download
Print PDF      PDF Download

Leave a Reply