डूबी डूबी Doobi Doobi Lyrics - Antara Nandy

'डूबी डूबी' | DOOBI DOOBI LYRICS IN HINDI: The song "Doobi Doobi" is sung by Antara Nandy from Vikram, Aishwarya Rai Bachchan, Jayam Ravi, Karthi and Trisha starrer film Ponniyin Selvan: I, directed by Mani Ratnam. DOOBI DOOBI song was composed by A.R. Rahman, with lyrics written by Mehboob.

Doobi Doobi Lyrics

Doobi doobi hui seep ki
Baahon mein boondein
Banti hai moti

Kaari kaari maati
Ke deep ki baahon mein
Rangi hai jyoti

Aksar naina bhi to
Kahani kayi bole
Raat ki aahat pe to
Chanda chham chham dole

Preet ke hai ye bhed saare
Samjho to samjho
Baaton baaton mein ye ishare
Samjho to samjho

Doobi doobi hui seep ki
Baahon mein boondein
Banti hai moti

Kan kan milke jaise parvat ban jaye
Tinko se basera pal pal se samaana
Shabdon se tarana

Yun bhi aata hai waqt kabhi
Ke milti hai aansu se bhi hansi
Aur hum jee jaate hai ek ek pal mein
Meethi meethi kai kai sadiyan si
Samjho to

Doobi doobi hui seep ki
Baahon mein boondein
Banti hai moti

Gumsum hawaon kuch to kaho
Saagar ki maujon shor karo
Namkeen hawaon mein shakkar gholi
Aankhon se jab ye aankhein mili

Yun hi chale ye safar saaton hi sagar
Do hi ho musafir saaton janam tak
Aye kash ho jaye kuch aisa bhi

Doobi doobi hui seep ki
Baahon mein boondein
Banti hai moti

Kaari kaari maati
Ke deep ki baahon mein
Rangi hai jyoti

Aksar naina bhi to
Kahani kayi bole
Raat ki aahat pe to
Chanda chham chham dole

Preet ke hai ye bhed saare
Samjho to samjho
Baaton baaton mein ye ishare
Samjho to samjho.

डूबी डूबी Lyrics in Hindi

डूबी डूबी हुई सीप की
बाहों में बूँदें
बनती हैं मोती

कारी कारी माटी
के दीप की बाहों में
रंगी है ज्योति

अक्सर नैना भी तो
कहानी कई बोले
रात की आहट पे तो
चंदा छम छम डोले

प्रीत के है ये भेद सारे
समझो तो समझो
बातों बातों में ये इशारे
समझो तो समझो

डूबी डूबी हुई सीप की
बाहों में बूँदें
बनती हैं मोती

कण कण मिलके जैसे पर्वत बन जाए
तिनकों से बसेरा पल पल से समाना
शब्दों से तराना

bharatlyrics.com

यूँ भी आता है वक़्त कभी
के मिलती हैं आँसू से भी हँसी
और हम जी जाते हैं एक एक पल में
मीठी मीठी कई कई सदीयाँ सी
समझो तो

डूबी डूबी हुई सीप की
बाहों में बूँदें
बनती हैं मोती

गुमसूम हवाओं कुछ तो कहो
सागर की मौजों शोर करो
नमकीन हवाओं में शक्कर घोली
आँखों से जब ये आँखें मिली

यूँ ही चले ये सफ़र सातों ही सागर
दो ही हो मुसाफिर सातों जनम तक
ए काश हो जाए कुछ ऐसा भी

डूबी डूबी हुई सीप की
बाहों में बूँदें
बनती हैं मोती

कारी कारी माटी
के दीप की बाहों में
रंगी है ज्योति

अक्सर नैना भी तो
कहानी कई बोले
रात की आहट पे तो
चंदा छम छम डोले

प्रीत के है ये भेद सारे
समझो तो समझो
बातों बातों में ये इशारे
समझो तो समझो.

Doobi Doobi Lyrics PDF Download
Print Print PDF     Pdf PDF Download

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *