Pankhida Lyrics - Saaj Bhatt, Prakriti Kakar

Pankhida Lyrics - Saaj Bhatt, Prakriti Kakar

LYRICS OF 'PANKHIDA' IN HINDI: पंखिड़ा The song is sung by Saaj Bhatt and Prakriti Kakar from Voilà! Digi. PANKHIDA is a Garba song, composed by Jay Mehta, with lyrics written by Bhrigu Parashar. The music video of the track is picturised on Deepak Joshi and Prachi Vora.

Pankhida Song Lyrics

Saiyaan kya kiya hai yeh tune aake
Ho saiyaan kya kiya hai yeh tune aake
Dil joh nazro ki window se jhaanke
Aakhir tu bol de joh bhi baat hai
Kal na hogi aisi raat meharbaan
Phir se dekhle

Pankhida bann udd jaau aasman mein
Dharti pe na phir yeh lage mere paanv re
Pankhida bann udd jaau aasman mein
Dharti pe na phir yeh lage mere paanv re
Pankhida haan pankhida

Daayein baayein dekhe kya yeh
Ghaghra hain yeh koyi signal hain kya
Hmm haaye haaye kuchh ho gaya hain
Bol tujhko bhi huya hain kya

Duniya ko bhool ke sang tu jhoom le
Phir na hogi aise dhadkanein jawaan
Phir se dekhle

Pankhida bann udd jaau aasman mein
Dharti pe na phir yeh lage mere paanv re
Pankhida bann udd jaau aasman mein
Dharti pe na phir yeh lage mere paanv re
Pankhida haan pankhida pankhida
Pankhida haan pankhida pankhida

Dono jahan se ab kya maangu
Aaj joh saath tera hain paya
Chhota lagne laga aasman bhi
Baahon mein jabse main sar jhukaya

Pankhida
Ho pankhida pankhida.

पंखिड़ा Lyrics in Hindi

सैयां क्या किया है ये तूने आके
हो सैयां क्या किया है ये तूने आके
दिल जो नज़रो की विंडो से झांके
आखिर तू बोल दे जो भी बात है
कल ना होगी ऐसी रात मेहरबान
फिर से देखले

पंखिड़ा बन उड़ जाऊ आसमान में
धरती पे ना फिर ये लगे मेरे पाँव रे
पंखिड़ा बन उड़ जाऊ आसमान में
धरती पे ना फिर ये लगे मेरे पाँव रे
पंखिड़ा हाँ पंखिड़ा

दाएं बाएं देखे क्या ये
घाघरा हैं ये कोई सिग्नल हैं क्या
हम्म हाय हाय कुछ हो गया हैं
बोल तुझको भी हुआ हैं क्या

दुनिया को भूल के संग तू झूम ले
फिर ना होगी ऐसे धड़कनें जवां
फिर से देखले

bharatlyrics.com

पंखिड़ा बन उड़ जाऊ आसमान में
धरती पे ना फिर ये लगे मेरे पाँव रे
पंखिड़ा बन उड़ जाऊ आसमान में
धरती पे ना फिर ये लगे मेरे पाँव रे
पंखिड़ा हाँ पंखिड़ा पंखिड़ा
पंखिड़ा हाँ पंखिड़ा पंखिड़ा

दोनों जहाँ से अब क्या मांगू
आज जो साथ तेरा हैं पाया
छोटा लगने लगा आसमान भी
बाहों में जबसे मैं सर झुकाया

पंखिड़ा
हो पंखिड़ा पंखिड़ा.

Pankhida Lyrics PDF Download
Print PDF      PDF Download

Leave a Reply