सजाऊंगा लूटकर भी Sajaunga Lutkar Bhi Lyrics - Shaan, Neeti Mohan

SAJAUNGA LUTKAR BHI LYRICS IN HINDI: Sajaunga Lutkar Bhi (सजाऊंगा लूटकर भी) is a Hindi Romantic song, voiced by Shaan and Neeti Mohan from Saregama Music. The song is composed by Dharan Kumar, with lyrics written by Kunaal Vermaa. The music video of the song features Jasmin Bhasin and Aly Goni.

Sajaunga lutkar bhi
Haa haa lahu jigar ka dunga

Sajaunga lut kar bhi
Tere badan ki daali ko
Lahu jigar ka dunga
Hansi labon ki lali ko

Hey mehsus yeh hota hai
Dil mein yun halchal si
Tujhe soch ke hoti hai

Hey tu yaar bata khul ke
Pyar hai kya mujhse
Keh de ab jo bhi hai

Tu ik pal jis par kar le
Teri nazar woh hosh mein na aaye
Ha tujh se kitne marte hai mujh par
Kis kis ko chaahein

Sajaunga lutkar bhi tere
Lahu jigar ka dunga
Hansi labon ki lali ko

Sajaunga lutkar bhi
Tere badan ki daali ko
Lahu jigar ka dunga
Hansi labon ki lali ko

Sajaunga lutkar bhi
Tere badan ki daali ko
Lahu jigar ka dunga
Hansi labon ki lali ko

Hey tu zara
Hass ke zara jab dekhe
Hey ae hai mera dil
Bas mein ab yeh tere

Sapne kayi dikhne lage
Sar meri nazron ke jhukne lage
Aati hai sharam aaine se hum
Dheere dheere bachne lage

Khushboo se chandan teri bane
Teri dhadhkan se resham bane
Aaja mere sang zindagi teri
Har khushi teri
Mera toh bas tu hai

Kisi ne chaha na ho kisi ko
Tujhe yun chaahungi
Awaaz dega khayalon mein bhi
Chali main aaungi

Sajaunga lutkar bhi
Teri badan ki daali ko
Lahu jigar ka dunga
Hansi labon ki lali ko

Sajaunga lutkar bhi
Teri badan ki daali ko
Lahu jigar ka dunga
Hansi labon ki lali ko

Hai wafa kya is jahan ko
Ek din dikhla dunga main diwana
Sajaungaa.

सजाऊंगा लूटकर भी Lyrics in Hindi

सजाऊंगा लूटकर भी
हां हां लहू जिगर का दूंगा

सजाऊंगा लूट कर भी
तेरे बदन की डाली को
लहू जिगर का दूंगा
हंसी लबों की लाली को

हे महसूस ये होता है
दिल में यूँ हलचल सी
तुझे सोच के होती है

हे तू यार बता खुल के
प्यार है क्या मुझसे
कह दे अब जो भी है

तू इक पल जिस पर कर ले
तेरी नज़र वो होश में ना आये
हा तुझ से कितने मरते है मुझ पर
किस किस को चाहें

सजाऊंगा लूटकर भी तेरे
लहू जिगर का दूंगा
हंसी लबों की लाली को

सजाऊंगा लूटकर भी
तेरे बदन की डाली को
लहू जिगर का दूंगा
हंसी लबों की लाली को

सजाऊंगा लूटकर भी
तेरे बदन की डाली को
लहू जिगर का दूंगा
हंसी लबों की लाली को

हे तू ज़रा
हस के ज़रा जब देखे
हे ऐ है मेरा दिल
बस में अब ये तेरे

सपने कई दिखने लगे
सर मेरी नज़रों के झुकने लगे
आती है शर्म आईने से हम
धीरे धीरे बचने लगे

खुशबू से चंदन तेरी बने
तेरी धड़कन से रेशम बने
आजा मेरे संग ज़िंदगी तेरी
हर ख़ुशी तेरी
मेरा तो बस तू है

किसी ने चाहा ना हो किसी को
तुझे यूँ चाहूंगी
आवाज़ देगा ख्यालों में भी
चली मैं आउंगी

सजाऊंगा लूटकर भी
तेरी बदन की डाली को
लहू जिगर का दूंगा
हंसी लबों की लाली को

सजाऊंगा लूटकर भी
तेरी बदन की डाली को
लहू जिगर का दूंगा
हंसी लबों की लाली को

bharatlyrics.com

है वफ़ा क्या इस जहाँ को
एक दिन दिखला दूंगा मैं दीवाना
सजाऊंगा.

Sajaunga Lutkar Bhi Lyrics PDF Download
Print Print PDF     Pdf PDF Download