Yaar Zaahir Lyrics - Ustad Rashid Khan, Palak Muchhal

Yaar Zaahir Lyrics - Ustad Rashid Khan, Palak Muchhal

YAAR ZAAHIR LYRICS IN HINDI: Yaar Zaahir (यार ज़ाहिर) is a Hindi Romantic song, voiced by Ustad Rashid Khan and Palak Muchhal from DRJ Records. The song is composed by Sandesh Shandilya, with lyrics written by Irshad Kamil. The music video of the song features Neha Sharma and Aashim Gulati.

Yaar Zaahir Song Lyrics

Yaar zaahir zaahir Jiya kar de
Yaar zaahir zaahir Jiya kar de
Kaash ke tu choom ke Khuda kar de

Jism yeh jungle nahi
Jism yeh jungle nahi
Huya kab se chal mujhe
Phir hara bhara kar de

Suna hai koi roothe toh
Roothe toh badhti chahatein
Suna hai koi roothe toh
Roothe toh badhti chahatein

Hai guzarish tu mujhko Khafa kar de
Kaash ke tu choom ke Khuda kar de

Zulfein teri pehle bani
Badal bane baad mein
Zulfein teri pehle bani
Badal bane baad mein

Phoolon ne bhi gehne
Pehne teri yaad mein

Main dhoondhon tere chehre ko
Chehre ko badal mein sada
Main dekhun saare phoolon mein
Phoolon mein teri hi aada

Yaar zaahir zaahir Jiya kar de
Kaash ke tu choom ke Khuda kar de

Khumari jaise roohon pe
Roohon pe chadhti chahatein
Suna hai koi roothe toh
Roothe toh badhti chahatein

Hai guzarish guzarish Shafa kar de
Kaash ke tu choom ke Khuda kar de

Jism yeh jungle nahi
Jism yeh jungle nahi
Hua kab se chal mujhe
Phir haara bhara kar de.

यार ज़ाहिर Lyrics in Hindi

यार ज़ाहिर ज़ाहिर जिया कर दे
यार ज़ाहिर ज़ाहिर जिया कर दे
काश के तू चूम के खुदा कर दे

जिस्म ये जंगल नहीं
जिस्म ये जंगल नहीं
हुआ कब से चल मुझे
फिर हरा भरा कर दे

सुना है कोई रूठे तो
रूठे तो बढ़ती चाहतें
सुना है कोई रूठे तो
रूठे तो बढ़ती चाहतें

है गुज़ारिश तू मुझको खफा कर दे
काश के तू चूम के खुदा कर दे

ज़ुल्फ़ें तेरी पहले बनी
बादल बने बाद में
ज़ुल्फ़ें तेरी पहले बनी
बादल बने बाद में

bharatlyrics.com

फूलों ने भी गहने
पहने तेरी याद में

मैं ढूंढूं तेरे चेहरे को
चेहरे को बदल में सदा
मैं देखूं सारे फूलों में
फूलों में तेरी ही अदा

यार ज़ाहिर ज़ाहिर जिया कर दे
काश के तू चूम के खुदा कर दे

खुमारी जैसे रूहों पे
रूहों पे चढ़ती चाहतें
सुना है कोई रूठे तो
रूठे तो बढ़ती चाहतें

है गुज़ारिश गुज़ारिश शफा कर दे
काश के तू चूम के खुदा कर दे

जिस्म ये जंगल नहीं
जिस्म ये जंगल नहीं
हुआ कब से चल मुझे
फिर हरा भरा कर दे.

Yaar Zaahir Lyrics PDF Download
Print PDF      PDF Download

Leave a Reply